ताज़ा ख़बर

राज्य सरकार के विकास एजेंडे को पचा नहीं पा रहा विपक्षः राजेन्द्र चौधरी

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि पार्टी की सरकार ने प्रदेश के विकास के जिस एजेण्डा पर काम शुरू किया है, वह विपक्षी दलों को रास नहीं आ रहा। भाजपा, बसपा व कांग्रेस तीनों इस सरकार के गठन के पहले दिन से ही इसे अपने लिए चुनौती मानते हैं। लोकसभा चुनावों के बाद इनमें कुछ ज्यादा ही तेजी आ गई है। भाजपा और बसपा मिलीभगत के साथ संवेदनशील मामलों को भी तूल देने में पीछे नहीं है। दरअसल, ये दल प्रदेश में विकास की गति अवरूद्ध करने की साजिश करते रहते हैं। प्रदेश में बहुमत के जनादेश से बनी सरकार और लोकतंत्र की मर्यादा के साथ उनका यह खिलवाड़ कतई असंगत और निंदनीय है। प्रदेश में बिजली संकट के पीछे केन्द्र से पर्याप्त बिजली नहीं मिलना है यह सर्वादित है। इसको लेकर विपक्ष का हंगामा प्रदर्शन बेमानी और राजनीतिक प्रेरित है। पिछली बसपा सरकार के समय एक यूनिट बिजली का उत्पादन नहीं हुआ। बिजली घरों में मशीनों की मरम्मत का पैसा भी लूट लिया गया। जाते-जाते बसपा की मुख्यमंत्री प्रदेश पर 25 हजार करोड़ रूपया का कर्ज मंहगी बिजली खरीद कर छोड़ गई। सपा सरकार को सत्ता संभालते ही पंगु और भ्रष्ट प्रशासनतंत्र विरासत में मिला। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तभी कहा था कि बिगड़ी व्यवस्था को पटरी में लाने में कुछ समय लगेगा। उनके प्रयास काफी हद तक सफल भी हुए। सरकार बाहर से बिजली खरीद के साथ अपने बिजलीघरों में भी उत्पादन बढ़ा रही है। कानून व्यवस्था पर मुख्यमंत्री का पूरा ध्यान है। वे पहले से ही इस मत के हैं कि अपराधिक तत्वों की जगह जेल में होनी चाहिए। समाज के कमजोर वर्ग के हितों की रक्षा के प्रति वे जागरूक है। हाल में उन्होने प्रशासनतंत्र में कड़े फेरबदल कर संदेश दिया है कि अब प्रशासन में किसी भी स्तर पर कोई कोताही बर्दाश्त नहीं होगी। बदायूं की जिस घटना को सियासी रंग देकर कुछ हताश, निराश और कुंठित नेताओं ने अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम किया हैं, उनकी मंशा कभी पूरी होने वाली नहीं है क्योंकि अखिलेश यादव ने पहले से ही इस घटना पर त्वरित कार्यवाहियां कर पीड़ितो को न्याय दिलाने में संदेह की जरा भी गुंजायश नहीं छोड़ी है। जो लोग अब भी राजनीति से बाज नहीं आ रहे हैं वस्तुतः वे प्रदेश की महिलाओं की इज्जत के प्रति चिंतित नहीं है बल्कि अपने बयानों से उन्हें अपमानित और लांछित कर रहे हैं। अखिलेश यादव ने शपथ ग्रहण के साथ ही पांच साल के चुनावी वायदों को पूरा करने का संकल्प लिया था और उनमें से अधिकांश दो साल में ही पूरे कर दिए हैं। बिजली, सड़क और आवास के क्षेत्र में परियोजनाओं पर तेजी से काम चल रहा है। जैसा कि अखिलेश यादव ने कहा है कि अगले छह माह में प्रदेश में विकास की नई धारा और तेजी से बहती दिखेगी। समस्याओं के समाधान के लिए उनमें दृढ़ इच्छाशक्ति और साहस हैं।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: राज्य सरकार के विकास एजेंडे को पचा नहीं पा रहा विपक्षः राजेन्द्र चौधरी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल