ताज़ा ख़बर

बदायूं जाकर मायावती ने अखिलेश सरकार पर बोला हमला

बदायूं। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने बदायूं बलात्कार कांड को लेकर अखिलेश सरकार पर हमला बोला है। रविवार दोपहर मायावती ने बदायूं जाकर पीड़ित परिवार से मुलाकात की। माया ने कहा कि अगर पीड़ित परिवार को परेशान किया गया, तो वह लखनऊ-दिल्ली छोड़कर गांव में आकर धरने पर बैठ जाएंगी। इसके बाद वह तब तक नहीं उठेंगी, जब तक पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिल जाता। मायावती ने केंद्र सरकार से कहा कि वह राज्य सरकार की सिफारिश के बाद अब मामले की सीबीआई जांच करवाकर दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाए। मायावती रविवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे हेलिकॉप्टर से बदायूं पहुंचीं। उन्होंने पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार की मदद ठुकराने वाले परिवार ने उनकी पार्टी से मदद मांगी है। माया ने कहा कि उनकी पार्टी दोनों पीड़ित परिवारों को 5-5 लाख रुपए देगी। माया ने कहा कि अखिलेश सरकार एक साल के अंदर अपनी करतूतों से गिर जाएगी। उन्होंने कहा कि अपराधियों को एसपी सरकार का संरक्षण हासिल है और उनकी सरकार के सत्ता में आते ही अभियान चलाकर ऐसे अपराधियों के खिलाफ कानून के तहत सख्त कार्रवाई जाएगी। अपने शासनकाल की तारीफ करते हुए माया ने कहा कि तब अपराधी या तो जेल में थे या फिर यूपी छोड़कर चले गए थे। इससे पहले लखनऊ में माया ने बदायूं मामले के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह के रेप को लेकर दिए गए विवादित बयान को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि मुलायम के बयान के बाद से प्रदेश में आपराधिक तत्वों के हौसले बढ़े हुए हैं। गौरतलब है कि मुलायम ने लोकसभा चुनाव के दौरान एक रैली में बलात्कारियों को फांसी न देने की वकालत करते हुए कहा था, 'रेप में फांसी की सजा सही नहीं है, लड़के हैं...गलती हो जाती है।' माया ने रविवार को बदायूं रवाना होने से पहले कहा, 'पीड़ित परिवार ने इस मामले की जांच अलग एजेंसी से करवाने की मांग इसलिए की क्योंकि उन्हें अहसास है कि जिस पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव बलात्कारियों को फांसी की सजा का विरोध करते हैं, उस सरकार में उन्हें न्याय नहीं मिल सकता है।' उन्होंने कहा कि मुलायम के बलात्कारियों को गलत समर्थन देने का ही नतीजा है कि पुलिस में आपराधिक प्रवृति के लोगों का मनोबल बढ़ा है।' गौरतलब है कि शनिवार को परिजनों की मांग के बाद अखिलेश सरकार ने मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी थी। मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। उन्होंने अखिलेश सरकार पर दबाव बनाने के लिए बदायूं जाने का निर्णय लिया। माया ने शनिवार रात मुख्य सचिव जावेद उस्मानी को हटाने को लेकर भी अखिलेश सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि चुनाव में मुस्लिमों से फायदा नहीं हुआ, तो मुख्य सचिव जावेद उस्मानी को हटा दिया गया। माया ने कहा कि बदायूं गैंगरेप के बारे में पता चलते ही उन्होंने बीएसपी के जिम्मेदार नेताओं को वहां भेज दिया और परिजनों की हर संभव मदद की। माया ने बदायूं की घटना पर विस्तृत जानकारी के लिए पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्या को घटना स्थल पर भेजकर रिपोर्ट तलब की। मौर्या को माया ने शुक्रवार को ही बदायूं भेज दिया था, जबकि शनिवार को मौके पर बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी गए। उधर, मायावती के बदायूं दौरे से पहले एक विवाद भी हो गया। बदायूं में माया का हेलिकॉप्टर उतारने के लिए हेलिपैड तैयार करवाने के काम में कुछ बच्चों को लगा दिया गया। बीएसपी नेता ने जब इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने हास्यास्पद तरीके से इसका बचाव किया। बीएसपी नेता ने कहा, 'बच्चों से कोई काम नहीं लिया गया। बच्चे तो बस वहां पानी डालकर खेल रहे थे। काम तब होता, अगर उनसे गड्ढा आदि खुदवाया जाता।'
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: बदायूं जाकर मायावती ने अखिलेश सरकार पर बोला हमला Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल