ताज़ा ख़बर

जय हो ब्रह्मऋषि देवरहा बाबा की

सिद्धार्थ मणि त्रिपाठी  
वह बबूल का पेड़ नहीं मेरा शिष्यब है, न कटेगा, न छांटा जाएगा। प्रधानमंत्री का कार्यक्रम टल गया, मगर पेड को आंच न आने दी। न उम्र का पता, न इतिहास का, लेकिन हरदिल अजीज रहा दिगम्बंर पूरा जीवन नदी के किनारे मचान पर ही काट दिया देवरहा बाबा ने। अमरकंटक में तो आंवले के पेड़ ने उन्हें अमलहवा बाबा बना दिया। प्रधानमंत्री राजीव गांधी को मथुरा के माठ इलाके में यमुना के किनारे एक साधु के दर्शन करने आना था। एसपीजी के साथ जिला और प्रदेश का सुरक्षा बल तैनात हो गया। प्रधानमंत्री के आगमन और यात्रा के लिए इलाके की मार्किंग कर ली गयी। आला सुरक्षा अफसरों ने हेलीपैड बनाने के लिए वहां लगे एक बबूल के पेड़ की डाल छांटने के निर्देश दिये। भनक लगते ही साधु ने एक बडे़ पुलिस अफसर को बुलाया और पूछ लिया कि यह पेड़ क्योंध छांटोगे। जवाब मिला कि पीएम की सुरक्षा के लिए जरूरी है। बाबा ने कहा कि तुम यहां अपने पीएम को लाओगे और प्रशंसा पाओगे, पीएम का भी नाम होगा कि वह साधुसंतों के पास जाता है। लेकिन इसका दंड तो इस बेचारे पेड को ही भुगतना होगा। वह मुझसे इस बारे में पूछेगा तो मैं उसे क्याह जवाब दूंगा। नहीं, यह पेड़ नहीं छांटा जाएगा। प्रशासन में हड़कंप मच गया। अफसरों ने अपनी मजबूरी बतायी कि दिल्ली से आये आला अफसरों ने यह फैसला लिया है, इसलिए इसे छांटा ही जाएगा। अब कुछ नहीं हो सकता। और फिर, पूरा पेड़ तो कटना है नहीं, केवल उसकी कुछ डाल काटी जाएगी। मगर साधु टस से मस नहीं हुआ। बोला कि यह पेड़ होगा तुम्हासरी निगाह में, मेरा तो सबसे पुराना शिष्या है। दिनरात मुझसे बतियाता है। यह पेड़ नहीं कटेगा। उधर अफसरों की घिग्घी बंधी हुई थी। साधु का दिल पसीज गया। बोले कि और अगर यह कार्यक्रम टल जाए तो। तयशुदा कार्यक्रम को टाल पाने में अफसरों ने भी असमर्थता व्य क्तग कर दी। आखिरकार साधु बोला कि जाओ चिंता मत करो। तुम्हांरे पीएम का कार्यक्रम मैं कैंसिल करा देता हूं। और, आश्च र्य कि दो घंटे बाद ही पीएम आफिस से रेडियोग्राम आ गया कि पीएम का प्रोग्राम टल गया है। कुछ हफ्तों बाद राजीव गांधी वहां आये, लेकिन इस बार यह पेड़ नहीं छांटा गया। यह थे देवराहा बाबा। न उम्र का पता और न अंदाजा। न कपड़ा पहनना और ना भोजन करना। उन्हेंं न तो किसी ने खाते देखा और ना ही पानी पीते। शौचादि का तो सवाल ही नहीं। हां, दिन में चार-पांच बार वे नदी में सीधे उतर जाते थे और प्रत्य।क्षदर्शी बताते हैं कि आधा-आधा घंटा तक वे पानी में रहते थे। इसपर उठी जिज्ञासाओं पर उन्हों्ने शिष्योंल से कहा कि मैं जल से ही उत्पेन्नत हूं। उनके भक्ति उन्हेंे दया का महासमुंद बताते हैं। अपनी यह सम्पषत्ति बाबा ने मुक्ता हस्ते से लुटाई। जो भी आया, बाबा की भरपूर दया लेकर गया। वितरण में कोई विभेद नहीं। वर्षाजल की भांति बाबा का आशीर्वाद सब पर बरसा और खूब बरसा। मान्य ता थी कि बाबा का आशीर्वाद हर मर्ज की दवाई है। कहा जाता है कि बाबा देखते ही समझ जाते थे कि सामने वाले का सवाल क्याव है। दिव्या दृष्ठि के साथ तेज नजर, कडक आवाज, दिल खोल कर हंसना, खूब बतियाना बाबा की आदत थी। याददाश्त, इतनी कि दशकों बाद भी मिले व्यहक्ति को पहचान लेते और उसके दादा-परदादा तक का नाम व इतिहास तक बता देते, किसी तेज कम्यूना टर की तरह। हां, बलिष्ठ कदकाठी भी थी। लेकिन देह त्यािगने के समय तक वे कमर से आधा झुक कर चलने लगे थे। ख्यादति इतनी कि जार्ज पंचम जब भारत आया तो अपने पूरे लावलश्ककर के साथ उनके दर्शन करने देवरिया जिले के दियरा इलाके में मइल गांव तक उनके आश्रम तक पहुंच गया। दरअसल, इंग्लैंेड से रवाना होते समय उसने अपने भाई से पूछा था कि क्याश वास्तगव में इंडिया के साधुसंत महान होते हैं। प्रिंस फिलिप ने जवाब दिया कि हां, कम से कम देवरहा बाबा से जरूर मिलना। यह सन 1911 की बात है। जार्ज पंचम की यह यात्रा तब विश्व युद्ध के मंडरा रहे माहौल के चलते भारत के लोगों को बिरतानिया हुकूमत के पक्ष में करने की थी। उससे हुई बातचीत बाबा ने अपने कुछ शिष्यों को बतायी भी थी, लेकिन कोई भी उस बारे में बातचीत करने को आज भी तैयार नहीं। डॉ.राजेंद्र प्रसाद तब रहे होंगे कोई दो-तीन साल के, जब अपने मातापिता के साथ वे बाबा के यहां गये थे। बाबा देखते ही बोल पडे़ कि यह बच्चा तो राजा बनेगा। बाद में राष्ट्रबपति बनने के बाद उन्होंेने बाबा का एक पत्र लिखकर कृतज्ञता प्रकट की और सन 54 के प्रयाग कुंभ में बाकायदा बाबा का सार्वजनिक पूजन भी किया। बाबा के भक्तों में लालबहादुर शास्त्रीा, जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, अटल बिहारी बाजपेई जैसी हस्तियां भी थीं। पुरूषोत्तंम दास टंडन को तो उन्हेंन राजर्षि की उपाधि तक दे डाली। तो शुरूआत फिर बाबा से ही। वे कब, कहां और किसके यहां जन्में, कोई नहीं जानता। यह भी नहीं कोई नहीं जानता कि बाबा ने वस्त्रं त्या‍ग कर कब दिगम्बेर चोला अपनाया। वरिष्ठी आईपीएस अधिकारी शैलजाकांत मिश्र बताते हैं कि उनकी परदादी के समय तक भी बाबा वैसे ही थे, जैसे सन 1990 में। हां, दियरा इलाके में रहने के चलते ही शायद उनका नाम देवरहा बाबा पडा होगा। लेकिन नर्मदा के अमरकंटक में आंवले के पेड़ होने के नाते वहां उनका नाम अमलहवा बाबा भी पड़ गया। उनका पूरा जीवन मचान में ही बीता। लकड़ी के चार खंभों पर टिकी मचान ही उनका महल था, जहां नीचे से ही लोग उनके दर्शन करते थे। मइल में वे साल में आठ महीना बिताते थे। कुछ दिन बनारस के रामनगर में गंगा के बीच, माघ में प्रयाग, फागुन में मथुरा के माठ के अलावा वे कुछ समय हिमालय में एकांतवास भी करते थे। खुद कभी कुछ नहीं खाया, लेकिन भक्तमगण जो कुछ भी लेकर पहुंचे, उसे भक्तोंव पर ही बरसा दिया। उनका बताशा-मखाना हासिल करने के लिए सैकड़ों लोगों की भीड़ हर जगह जुटती थी। अचानक 11 जून 1990 को उन्होंोने दर्शन देना बंद कर दिया। लगा जैसे कुछ अनहोनी होने वाली है। मौसम तक का मिजाज बदल गया। यमुना की लहरें तक बेचैन होने लगीं। मचान पर बाबा त्रिबंध सिद्धासन पर बैठे ही रहे। डॉक्टगरों की टीम ने थर्मामीटर पर देखा कि पारा अंतिम सीमा को तोड निकलने पर आमादा है। 19 तारीख को मंगलवार के दिन योगिनी एकादशी थी। आकाश में काले बादल छा गये, तेज आंधियां तूफान ले आयीं। यमुना जैसे समुंदर को मात करने पर उतावली थी। लहरों का उछाल बाबा की मचान तक पहुंचने लगा। और इन्हींन सबके बीच शाम चार बजे बाबा का शरीर स्पं दनरहित हो गया। भक्तों की अपार भीड भी प्रकृति के साथ हाहाकार करने लगी। बर्फ की सिल्लियां लगा कर बाबा की पार्थिव देह को सुरक्षित रखने का प्रयास कर दिया गया। अब तक देश-विदेश तक में बाबा के ब्रह्मलीन हो जाने की खबर फैल चुकी थी। लेकिन अचानक ही बाबा के सिर पर स्पंकदन महसूस किया गया। कि अचानक ही बाबा का ब्रह्मरंध्र खुल गया। उनके शिष्यप देवदास ने उस ब्रह्मरंध्र को भरने के लिए फूलों का सहारा लिया, लेकिन वह भर नहीं पाया। आखिरकार, दो दिन बाद बाबा की देह को उसी सिद्धासन-त्रिबंध की स्थिति में यमुना में प्रवाहित कर दिया गया। (फेसबुक वाल से)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: जय हो ब्रह्मऋषि देवरहा बाबा की Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल