ताज़ा ख़बर

उत्तराखंड में फिर फटा बादल, बचाव अभियान रुका

देहरादून। उत्तराखंड में कई जानें निगल लेने के बाद भी कुदरत का कहर जारी है। 25 जून की सुबह टिहरी जिले के देवप्रयाग में बादल फटने से तीन लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। इसमें कुछ मकान भी बह गए। यह हादसा सुबह करीब साढ़े छह बजे हुआ। उधर, रुद्रप्रयाग, चमोली और उत्तरकाशी में भारी बारिश से हुए भूस्खलन से बचाव कार्य बुरी तरह प्रभावित हुआ है। 24 जून की रात से कई जगहों पर जारी भारी बारिश से चारधाम यात्रा पर आए करीब 10 हजार लोग अभी भी फंसे हुए हैं। मौसम के बिगड़े मिजाज से सेना को अपना रेस्क्यू ऑपरेशन रोकना पड़ा है। मौसम विभाग के भारी बारिश के पूर्वानुमान के बीच फंसे लोगों को बाहर निकालने में तीन दिन और लग सकते हैं। ऋषिकेश से चारधाम यात्रा पर जाने के लिए देवप्रयाग वाला रास्ता सड़क टूट जाने से पूरी तरह बंद हो गया है। अब चंबा व टिहरी होते हुए चमोली, उत्तरकाशी जाने का रास्ता बचा है। यह रास्ता भी भूस्खलन की वजह से कई जगह से टूटा हुआ है। उत्तरकाशी और धरासू के बीच सड़क टूटने की खबर है। इसके अलावा घनसाली में भी सड़क टूटी हुई है। ताजा बारिश, भूस्खलन और बादल फटने के कारण विभिन्न एजेंसियों को राहत-बचाव अभियान चलाने में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। बद्रीनाथ में फंसे 5,000 लोगों में से केवल 164 को सोमवार को निकाला जा सका और उन्हें छह सीटों वाले कुछ विमानों की मदद से जोशीमठ पहुंचाया गया। मुख्य सचिव सुभाष कुमार ने देहरादून में संवाददाताओं से कहा कि बारिश होने के कारण राहत कार्य प्रभावित हुए हैं और चमोली जिले और गंगोत्री घाटी समेत अन्य स्थानों से करीब 1,000 तीर्थयात्रियों को ही निकाला जा सका। बद्रीनाथ से 164 तीर्थयात्रियों को निकाला गया जबकि हरसिल, मनेरी और भटवाड़ी से 830 लोगों को निकाला गया। चमोली जिले में बद्रीनाथ, पांडुकेश्वर और लामबगड़ में छोटे हेलिकॉप्टर से 164 लोगों को निकाला गया है। चमोली और पौड़ी जिले से मिली रिपोर्ट के मुताबिक, ऊंचाई वाले इलाके में बारिश के कारण हेलिकॉप्टर से अभियान में रुकावट आई है। राजधानी देहरादून में बारिश हुई है। रुद्रप्रयाग और बद्रीनाथ हाइवे पर ताजा भूस्खलन के कारण रास्ते में रुकावट आ गई है। दिल्ली में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के महानिदेशक अजय चढ्ढा ने कहा कि केदारनाथ से ज्यादातर लोगों को निकाल लिया गया है जबकि बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री में कुछ लोग फंसे हुए हैं जिन्हें धीरे धीरे बाहर निकाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि हेलिकॉप्टरों के उड़ान भरने के साथ ही बचाव अभियान फिर से शुरू किया जाएगा।
(अपनी बातों को जन-जन तक पहुंचाने व देश के लोकप्रिय न्यूज साइट पर समाचारों के प्रकाशन के लिए संपर्क करें- Email ID- contact@newsforall.in तथा फोन नं.- +91 8922002003.)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: उत्तराखंड में फिर फटा बादल, बचाव अभियान रुका Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल