ताज़ा ख़बर

सात मौतों से आंसूओं के सैलाब में डूबी बांसी तहसील

सिद्घार्थनगर (संजीव श्रीवास्तव)। ईश्वर का लिखा कोई काट नही सकता,उसे जो मंजूर है वह होके ही रहता है। कुछ ऐसा ही घटित हुआ बांसी तहसील क्षेत्र के छह परिवारों के साथ,जहां एक ही झटके मे इन छह परिवारों के घरों के चूल्हे एक ही साथ बुझ गये और इन परिवारो पर विपत्ति का पहाड़ टूट पडा। इस घटना से हर किसी के मुंह से यही निकल रहा है कि इन गरीबों ने भगवान से रोजी मांगी थी और उन्हे मौत नसीब हो गयी। थाना कोतवाली बांसी के ग्राम पिपरा पडरूपुर निवासी 60 वर्षीय हुकुमदार पुत्र जुम्मन,शफीक पुत्र आशिक अली,ग्राम डिडई निवासी 47 वर्षीय महबूब पुत्र हसमत, थाना खेसरहा के ग्राम बेलौहा निवासी 25 वर्षीय जगनारायन पुत्र परशुराम,ग्राम देउरी निवासी 35 वर्षीय फारूक पुत्र पटटू और ग्राम परसपुर निवासी परसपुर रफीक रोजी-रोटी की तलाश में मुम्बई जाने के लिए निकले थे पर ईश्वर ने उनका टिकट केवल हर्रैया तक ही पास किया है। और वही हुआ जो ईश्वर को मंजूर था। बस्ती जनपद के हर्रैया के पास पहुंचते ही इन लोगो की प्राइवेट बस सामने से आ रही एक भारी वाहन से टकरा गयी और इन सभी की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी। रोजी रोटी की तलाश मे घर परिवार को छोडकर मुम्बई जाना इन परिवारों के लिए अचानक अभिशाप बन गया और इन घरो के चूल्हे एक साथ बुझ गये। डिडई निवासी मृतक महबूब मुम्बई में ही नौकरी करते थे वे छुटटियां बिताकर फिर मुम्बई जा रहे थे, उनका एक लडका दुबई में है जबकि दो बच्चे व पत्नी घर ही रहते है जिनके उपर से मुखिया का साया उठ गया है। शनिवार की सुबह ही होने वाली मुम्बई की यात्रा को लेकर मृतको के परिवार मे खासा उत्साह एक सप्ताह पहले से ही बना रहा। लोगो की इन मुम्बई जाने वालों से ढेर सारी उम्मीदे भी थी। हर किसी ने जाने वालो से अपनी अपनी कुछ फरमाइशे की थी,लेकिन काल के कू्रर हाथों को कुछ और ही मंजूर था, जाने वालों की अचानक इहि लीला ही समाप्त हो गयी। इस घटना की सूचना जैसे ही मृतको के गांव पहुंची हर कोई अवाक रह गया, सहसा किसी को भरोसा ही नही हुआ, लेकिन जब सभी को असलियत का पता चला तो उक्त गांवो में मातम छा गया ,जो जहां था वही संवेदनशून्य हो गया। मृतको के परिजन बेहोश हो गये।
एमपी ने की पीएम से मुलाकात 
बस्ती जनपद के हरैया में हुए सड़क हादसे से मंडल ही नहीं दिल्ली में भी कोहराम मच गया। दुर्घटना में एक साथ हुई चौदह मौतों से सांसद भावुक हो उठे। मंडल के तीनों जिलों के नागरिकों की मौत पर उन्होंने भारी दुख व्यक्त किया। साथ ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की और पीड़ित परिवारों के लिए मदद मांगी। शनिवार को हुई मौतों पर सांसद जदम्बिका पाल ने भारी दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इससे सिद्धार्थनगर के सात, बस्ती के चार व संतकबीरनगर के तीन व्यक्तियों की मौत हो गई। लगभग 22 व्यक्ति घायल हैं। सभी घर से कमाने के लिए बाहर निकले थे, मगर हादसे में उनकी जान चली गई। उन्होंने प्रधानमंत्री से मुलाकात कर पीड़ित परिवार के मदद के लिए गुहार लगायी। उनके मुताबिक प्रधानमंत्री ने उन्हें मदद के लिए आश्वासन भी दिया है।
(अपनी बातों को जन-जन तक पहुंचाने व देश के लोकप्रिय न्यूज साइट पर समाचारों के प्रकाशन के लिए संपर्क करें- Email ID- contact@newsforall.in तथा फोन नं.- +91 8922002003.)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: सात मौतों से आंसूओं के सैलाब में डूबी बांसी तहसील Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल