ताज़ा ख़बर

केके अटल के प्रयास से पूर्वोत्तर रेलवे को मिल रहे बेहतर परिणाम

गोरखपुर (आलोक)। यात्री प्रधान पूर्वोत्तर रेलवे द्वारा अपने सम्मानित यात्रियों को अधिकतम यात्री सुविधायें प्रदान कर रेल परिवहन व्यवस्था में उनका विष्वास और दृढ़ करने के प्रयास निरन्तर जारी हैं । तीव्र, सुरक्षित, संरक्षित एवं आरामदायक यात्रा सुविधा उपलब्ध कराने हेतु हर स्तर पर समर्पित एवं समेकित प्रयास किये जा रहे हैं । पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबन्धक केके अटल के कुशल निर्देशन में किये जा रहे प्रयासों के बेहतर परिणाम प्राप्त हो रहे हैं तथा यात्री संख्या में हो निरन्तर वृद्धि इन्हीं प्रयासों का परिणाम है । पूर्वोत्तर रेलवे के सन्दर्भ में वित्त वर्ष 2013-14 की सुखद शुरूआत हुई है । इस रेलवे के अनुपनगरीय (नान-सब अरबन) यात्रियों की संख्या में माह अप्रैल,2013 में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है तथा भारतीय रेल के सभी क्षेत्रीय रेलों में पूर्वोत्तर रेलवे ने पहला स्थान हासिल किया है । इस वर्ग में केवल पूर्वोत्तर रेलवे ने ही गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में सकारात्मक प्रगति की है । रेलवे बोर्ड द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल,2013 में पूर्वोत्तर रेलवे पर 20.43 लाख नान-पीआरएस तथा 1.14 लाख पीआरएस कुल 21.57 लाख यात्रियों ने यात्रा की। यह गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 2.23 प्रतिषत की वृद्धि दर्शाता है। यह उपलब्धि निष्चित रूप से पूर्वोत्तर रेलवे की कार्य प्रणाली एवं कार्यकुषलता की विष्वसनीयता में यात्रियों के बढ़ते विष्वास की झलक है ।                   हाउस कीपिंग सेवा लागू
पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा रेल परिसर,प्लेटफार्मों एवं गाडि़यों की साफ-सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाने हेतु निरन्तर प्रयास किया जा रहा है जिसके अन्तर्गत आन बोर्ड हाउस कीपिंग सेवा लागू की गई है । इस सेवा के अन्तर्गत सुबह 05.00 बजे से 09.00 बजे तथा शाम 16.00 बजे से 20.00 बजे गुजरने वाली गाडि़यों में ठहराव के दौरान कोचों के शौचालय वेस्टिबुल एरिया वाश बेसिन, डस्टबिन तथा यात्री कक्ष की सफाई एवं पोछा लगाना, वातानुकूलित यानों में एयर फ्रेषनर का छिडकाव, खिडकियों के शीषे की केमिकल से सफाई, वातानुकूलित कोचों के यात्रियों को लिक्विड सोप एवं टिषू पेपर रोल उपलब्ध कराना, कोच में एकत्र कूड़ा का निस्तारण आदि कार्य तत्परता से किया जाता है । पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ मण्डल के अन्तर्गत गोरखपुर से गुजरने वाली 20 मेल/एक्सप्रेस गाडि़यों में आन बोर्ड हाउस कीपिंग सर्विस उपलब्ध कराया गया है । जिन ट्रेनों में ये सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं उनमें गोरखपुर दादर एक्सप्रेस, राप्ती सागर एक्सप्रेस, सिकन्दराबाद-गोरखपुर एक्सप्रेस, बंगलौर-गोरखपुर एक्सप्रेस, रोहतक-गोरखपुर गोरखधाम एक्सप्रेस, जम्मूतवी-गोरखपुर अमरनाथ एक्सप्रेस, अमरनाथ एक्सप्रेस, पूर्वांचल एक्सप्रेस का नाम शामिल है। इसी प्रकार वाराणसी मण्डल के छपरा रेलवे स्टेशन से प्रस्थान करने वाली सारनाथ एक्सप्रेस तथा इज्जतनगर मण्डल के काठगोदाम एवं रामनगर स्टेशनों से प्रस्थान करने वाली क्रमशः रानीखेत एक्सप्रेस तथा रोहिल्ला-रामनगर लिंक एक्सप्रेस में आन बोर्ड हाउस कीपिंग की सुविधा उपलब्ध है। इसके अतिरिक्त पूर्वोत्तर रेलवे से गुजरने वाली इतर रेलवे की 26 मेल/एक्सप्रेस गाडि़यों में आन बोर्ड हाउस कीपिंग की सुविधा उपलब्ध है । आन बोर्ड हाउस कीपिंग के कार्यों की समीक्षा यात्रियों द्वारा दी गई प्रतिक्रिया के आधार पर रेल अधिकारियों द्वारा नियमित की जाती है । यात्रियों की जागरूकता हेतु आन बोर्ड हाउस कीपिंग के अन्तर्गत किये जाने वाले कार्यों के विवरण का स्टीकर कोच के अन्त में लगाया गया है । इस स्टीकर पर सम्बन्धित रेलवे का हेल्प लाइन तथा आन बोर्ड हाउस कीपिंग सेवा प्रदाता का भी मोबाइल नम्बर अंकित है । यात्रा के दौरान यात्री गण किसी भी समय कोच में पानी एवं सफाई की आवश्यकता हेतु उक्त मोबाइल पर सम्पर्क कर सकते हैं । इस कार्य हेतु कोच में चल रहे कण्डक्टर/टी.टी.ई. से भी सम्पर्क किया जा सकता है ।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: केके अटल के प्रयास से पूर्वोत्तर रेलवे को मिल रहे बेहतर परिणाम Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल